लोककथा भाग 9

एक गांव में एक दर्जी रहता था। उसने एक बकरी पाली हुई थी। वह बकरी बातें करती थी। उस दर्जी के तीन बेटे…

लोककथा भाग 8(गंगा)

गंगा के बारे में भीलों की भी एक रोचक लोककथा है जो महाभारत की परम्‍परागत कथाओं से एकदम भिन्‍न है। और मौखिक रूप…

लोककथा भाग 7

बहुत पुराने समय की बात है एक बहुत ही प्यारा इंसानो की भाषा बोलने वाला सुग्गा था। वह एक किसान के घर के…

लोककथा भाग 6

छोटी चिड़िया एक पेड़ पर एक चिड़िया थी, जो रोज दाना चुगने के लिए अपने बच्चों को घोंसले में छोड़कर, दूर जंगलों के…

लोककथा भाग 5

कौवा हकनी बहुत पहले एक राजा  था। उनकी दो रानियाँ थीं। दोनों रानियो के कोई सन्तान न थी। राजा और रानी सभी मन्दिरों…

लोककथा भाग 4

एक सूफी संत थें।सूफियाना मिजाज के साथ ही उनके हाजिर जबाब होने की भी बहुत चर्चा थी।लोग उनसे दूरी ही बना कर रहतें…

संरक्षित:

यहाँ कोई उद्धरण नही है क्योंकि यह एक संरक्षित पोस्ट है।

वो अघोरी

मैं उसे देखकर नजरअंदाज कर दिया करता था।तब मुझे इनके ढकोसले पन और कर्महीनता पर बहुत ही क्रोध आता था।गन्दगी सर से पांव…

प्रवी

प्रवी रोज की तरह आज स्कूल से 1:00 बजे घर पहुँची।स्कूल का बैग उतारकर बगल में रख दिया और मेरे पास खड़ी हो…

वो गलियां

ये शहर की उन बदनाम गलियों की कहानी है जहाँ शरीफ ज़ादे दिन के उजाले में जानें में कतराते हैं।मगर रात में अपनी…

गुमशुदा लडकी

बात उस समय की है जब मेरी पोस्टिंग पिथौरागढ़ के जंगली इलाके में थी।मैं उस छोटे से चौकी का इंचार्ज था कुल मिलाकर…

तिनगी का नाच

आजकल के आधुनिक भारत में जब महिलाओं को पुरुषों की बराबरी का दर्जा दिया गया है और महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से…

त्याग

बहुत पुरानी बात है।दादाजी और गांव के कुछ लोगों से सुना था।हमारे गांव में गोमती नदी के किनारे एक बहुत ही विशाल पीपल…

लोककथा भाग 3

शातिर चोर किसी ज़माने में एक बहुत शातिर चोर था। वह बड़ा ही चतुर था। उसका मानना था कि वह आदमी की आंखों…

लोककथा भाग 2

टिपटिपवा एक गाँव में मेघु नाम का एक मोची ने अपने रहने के लिए एक झोपड़ी बना रखी थी। वह अपने परिवार का…