जबसे जाना जितना जाना

कैसी हो तुम

जबसे जाना जितना जाना, बुन रहा बस उसका ताना बाना नाम सी स्वर्णिम,कर्म स्वरूपा अंखियां जीवन ज्योत जगाई अधरों पर...


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/mobihangama/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275