नरपिशाचिनी और राजकुमार

Woman Carrying Baskets With Child And Woods 3423917

Woman Carrying Baskets With Child And Woods 3423917

बहुत पुरानी बात है, सुंगंधा नगरी में सुचिंतन नाम का एक राजा राज करता था । यथा नाम तथा रूप, सुंगंधा नगरी धन – धान्य तथा प्राकृतिक सोंदर्य से परिपूर्ण थी । राजा सुचिंतन भी वीर, दानी, दयालु और धर्मपरायण था । उसका यश दूर – दूर तक फैला हुआ था ।
 
एक दिन एक नरपिशाचिनी सुंगंधा नगरी से होकर गुजर रही थी । सुंगंधा नगरी की सुन्दरता पर मुग्ध हो उसने वही अपना घर बसाने का निश्चय किया । अब वह तरह – तरह के रूप बदल कर नगर में विचरण करने लगी । कभी बाल छद्म वेश में वह बालकों के साथ खेलती तो कभी सुंदर स्त्री के छद्म वेश में नगर की अन्य स्त्रियों के साथ पानी भरने जाती ।

उसने कुछ दिन ऐसे ही छद्म वेश और छद्मनाम नाम से नगर में अपनी पहचान बना ली । उसने अपनी मायावी ताकत से अपना घर और परिवार खड़ा कर लिया । सबका विश्वास जीत लेने के बाद उसने अपना काम करना शुरू किया ।

अब नरपिशाचिनी प्रतिदिन एक बालक का भक्षण करने लगी । धीरे – धीरे बालकों के गायब होने का समाचार जब महाराज तक पहुँचा तो उन्होंने सैनिकों की एक टुकड़ी इसकी खोजबीन करने के लिए लगा दी ।

सैनिकों ने दिनरात भाग – दौड़ करके पर्वत, नदियाँ, वन, गुफाएं और नगर सब खोज डाले, किन्तु उन्हें कहीं भी लापता बच्चों की कोई निशानी तक नहीं मिली । थकहार कर वह महाराज के समक्ष उपस्थित हुये ।

समस्या की गंभीरता को देखते हुये महाराज ने सम्पूर्ण नगर में घोषणा करवा दी कि कोई भी नगरवासी अपने बच्चों को बाहर ना निकलने दे । यह घोषणा होते ही सम्पूर्ण नगर में प्रत्येक घर के द्वार बंद रहने लगे ।

अब नरपिशाचिनी के आहार में कमी आई । वह प्रतिदिन भोजन की ताक में निकलती, किन्तु एक भी बालक उसे यहाँ – वहाँ नहीं दिखाई देता था । अब वह किसी अच्छे अवसर की तलाश में भूखी रहने लगी ।

राजा सुचिंतन ने इस भारी विपदा से निपटने के लिए नगर के सभी बुद्धिमान विद्वानों की सभा बुलाई । सबने बहुत विचार – विमर्श किया, किन्तु किसी के पास कोई कारगार योजना नहीं थी । सब चुप्पी साधे बैठे थे । अचानक एक बुढा आदमी दौड़ते हुये सभा में प्रविष्ट हुआ और महाराज से बोला – महाराज की आज्ञा हो तो मेरे पास एक योजना है !

महाराज सुचिंतन सहमति जताते हुये – “कहो, क्या योजना है ?”

बुढा आदमी बोला – महाराज ! यदि हम किसी निश्चित स्थान पर कुछ बच्चों को अकेला छोड़कर अज्ञात रूप से उनकी निगरानी करें तो वह बाल भक्षक जरुर पकड़ा जायेगा ।

महाराज को बूढ़े की बात पसंद आ गई, किन्तु कोई भी अपने बच्चों को अकेला छोड़ने को तैयार न था । अंततः महाराज ने अपनी प्रजा का हित देखते हुये स्वयं अपने बेटे राजकुमार चंचल को अकेला नगर से बाहर छोड़ने का आदेश दे दिया ।

जैसा नाम वैसे लक्षण ! राजकुमार चंचल राजमहल से निकलते ही दौड़ने लगा । जिसे देखता उसका अनुकरण करने लगता । बिचारे सैनिक भी राजकुमार का पीछा करते – करते थक गए ।

बहुत दौड़ने के कारण उनका गला प्यास से सुखा जा रहा था । अतः वे एक कुएं से पानी पिने के लिए रुक गये । राजकुमार तो पहली बार बाहर निकला था । अतः नगर की सुन्दरता को निहारते – निहारते दौड़ता चला जा रहा था ।

संयोग से सामने से नरपिशाचिनी आ रही थी । राजकुमार को अपनी ओर आता देख पिशाचिनी के मुंह में पानी आ गया । बड़े दिनों से जल रही क्षुधा की आग के शांत होने की कल्पना कर पिशाचिनी बड़ी खुश हो रही थी ।

किसी को आसपास ना देख पिशाचिनी ने राजकुमार को कुछ खिलौने दिए । राजकुमार ने और खिलौने मांगे तो पिशाचिनी ने उसे अपने साथ चलने को कहा । राजकुमार उस सुंदरी का छद्म वेश धारी पिशाचिनी के साथ चल दिए । किसी अनजान औरत के साथ राजकुमार को जाता देख सैनिकों ने उनका पीछा किया, किन्तु कुछ ही दूर जाने के बाद पिशाचिनी अपनी मायावी शक्ति से गायब हो गई ।

पिशाचिनी ने अपने घर पहुँच राजकुमार को चूल्हे के पास बिठा दिया । आग सुलगा, लकड़ियाँ डाल वह मांस पकाने का बर्तन लेने चली गई । इधर राजकुमार स्वभाव से चंचल था । उसने एक जली हुई लकड़ी उठाई और दे मारी छत पर, दूसरी जलती लकड़ी उठाई और लकड़ियों के बड़े गठ्ठर पर फेंक दी । अब तीसरी लकड़ी लेकर वह बर्तन धो रही पिशाचिनी के पीछे जा खड़ा हो गया ।

तब पिशाचिनी अपने असली रूप में बैठी थी । जैसे ही उसने राजकुमार की और देखा, डरते हुये राजकुमार ने वह जलती लकड़ी उसके सिर पर दे मारी । पिशाचिनी का सिर जलने लगा । हडबडाहट में उसने पानी का घड़ा भी फोड़ दिया । अब घर में कहीं पानी नहीं और पूरा घर जल रहा था ।

इधर सैनिकों को एक छत से धुआं उठता दिखाई दिया । सैनिक तुरंत दौड़कर वहाँ गये तो पागलों की तरह दौडती हुई एक पिशाचिनी के सामने राजकुमार चंचल को खड़ा देखा । उन्होंने तुरंत पिशाचिनी को बंदी बना लिया ।

इस तरह राजा की कर्त्तव्य परायणता और राजकुमार की चंचलता ने सम्पूर्ण प्रजा को उस पिशाचिनी के आतंक से मुक्त कर दिया ।

हर देश का राजा यदि राजा सुचिंतन की तरह कर्तव्य परायण हो जाये तो वहाँ की प्रजा कभी दुखों से पीड़ित नहीं हो सकती ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi
en_USEnglish hi_INHindi