शरलॉक होम्स की जासूसी 3

सवेरे की हमारी गतिविधियां मेरी कमजोर तबीयत के लिए कुछ ज्यादा ही कष्टप्रद साबित हुईं और दोपहर होतेहोते मैं पस्त हो चुका था. कांसर्ट के लिए होम्स के रवाना होने के बाद मैं सोफे पर लेट गया और एकाध घंटा सोने की कोशिश करने लगा. यह एक असफल प्रयास था. जो कुछ भी हुआ था, उस से मेरा मन बड़ा बेचैन था और तरहतरह की बातें उठ रही थीं. जितनी बार भी मैं ने आंखें बंद कीं, मेरे सामने कत्ल हुए उस आदमी का टेढ़ा, बंदरनुमा चेहरा दिखलाई दिया. उस चेहरे का मेरे ऊपर इतना खौफनाक असर पड़ा कि मेरे मन में उस शख्स के प्रति कृतज्ञता भर गई, जिस ने इतने विद्रूप चेहरे को दुनिया से मिटा डाला था. अगर किसी इनसानी चेहरे पर बुरी से बुरी आदतें लिखी थीं, तो वह इनसान एनोच जे. ड्रेबर, क्लीवलैंड ही हो सकता था. फिर भी मैं समझ गया था कि इंसाफ होना चाहिए और मृतक की आपराधिक प्रवृत्ति न्याय की नजर में हत्या को सही नहीं ठहरा सकती.

मैं ने इस के बारे में जितना सोचा, उतना ही असाधारण मुझे अपने मित्र का तर्क लगा कि इस आदमी को जहर दिया गया है. मुझे याद आया कि कैसे उस ने उस के होंठ सूंघे थे और इस के बारे में कोई शक नहीं था कि उस ने उस में कुछ ऐसा अनुभव किया था, जिस से यह खयाल उपजा होगा. फिर अगर यह जहर नहीं था, तो उस आदमी की मृत्यु का क्या कारण हो सकताथा, क्योंकि न तो चोट के निशान थे, न गला घोंटे जाने के? पर दूसरी ओर, वह किस का खून था जो इतना गाढ़ा हो कर जमीन पर फैला था?

संघर्ष का कोई निशान नहीं था. न ही मृत आदमी के पास कोई हथियार ही था, जिस से वह अपने दुश्मन को मार सकता. जब तक ये प्रश्न अबूझे रहते हैं, मुझ को लगा कि नींद आना कोई आसान काम नहीं, न होम्स के लिए, न ही मेरे लिए. उस का शांत, आत्मविश्वास से भरा रवैया मुझे आश्वस्त कर रहा था कि उस ने कोई धारणा बना ली है जिस से सारी बातें साफ हो जाती हैं, हालांकि वह धारणा क्या थी, यह समझ से बाहर था.

वापस आने में उसे बहुत देर हो गई. इतनी देर कि मैं समझ गया कि इतना वक्त उसे कांसर्ट में नहीं लग सकता था. उस के आने से पहले ही डिनर टेबुल पर लग चुका था.

“बहुत आलीशान था,” उस ने अपनी सीट पर बैठते हुए कहा. “क्या तुम्हें याद है कि डारविन संगीत के बारे में क्या कहता है? वह दावा करता है कि संगीत को उत्पन्न करने और उस की तारीफ करने की क्षमता इनसान में वाणी से भी पहले उत्पन्न हो चुकी थी. शायद इसलिए हम संगीत से इतना प्रभावित होते हैं. हमारी आत्माओं में इन धुंध भरी शताब्दियों की धुंधली सी यादें हैं, जब यह संसार अपने शिशुकाल में था.”

“यह तो बड़ा विस्तृत खयाल है,” मैं ने टिप्पणी की.

“अगर हम प्रकृति को समझना चाहते हैं तो हमारेविचार प्रकृति की तरह विस्तृत होने चाहिए,” उस ने जवाब दिया, “क्या मामला है? तुम कुछ अनमने लग रहे हो. ब्रिक्स्टन रोड मामले से तुम परेशान हो गए हो.”

“सच कहूं तो हां, ऐसा ही है,” मैं ने कहा, “अफगान के अपने अनुभवों के बाद मुझे मजबूत हो जाना चाहिए था. मैं ने मैवांड में अपने ही साथियों को, (बगैर अपना आपा खोए) टुकड़ेटुकड़े काटे जाते देखा है.”

“मैं समझ सकता हूं. इस के बारे में कोई रहस्य जरूर है, जो मन को झकझोर देता है. जब कोई कल्पना नहीं होती, तो भय भी नहीं होता. क्या तुम ने शाम का अखबार देखा है?”

“नहीं.”

“उस में पूरे माजरे का काफी अच्छा वर्णन है. उस में यह बात नहीं बताई गई है कि जब उस आदमी को उठाया गया, तो एक स्त्री की शादी की अंगूठी जमीन पर गिरी थी. अच्छा ही हुआ कि उस में इस बात का जिक्र नहीं था.”

“क्यों?”

“इस विज्ञापन को देखो,” उस ने उत्तर दिया. “इस घटना के तुरंत बाद मैं ने एक ऐसा विज्ञापन आज सुबह हर अखबार में भिजवाया है.”

“उस ने अखबार मेरी ओर फेंका और मैं ने उस जगह पर नजर डाली, जहां उस ने इशारा किया था. ‘पाया’ वाली पंक्ति में यह पहली घोषणा थी. ‘ब्रिक्स्टन रोड में आज सुबह.’ उस में लिखा था, ‘एक सादी, सोनेकी अंगूठी, ह्वाइट हार्ट टैवर्न और हॉलैंड ग्रोव के बीच की सड़क पर पाई गई है. डा. वॉटसन, 221-बी बेकर स्ट्रीट से संपर्क करें, आज शाम आठ और नौ बजे के बीच.”

“तुम्हारे नाम का इस्तेमाल करने के लिए माफी चाहता हूं,” उस ने कहा. “अगर मैं ने अपना नाम लिखा होता, इन में से कुछ बेवकूफों ने पहचान लिया होता और फिर वे लोग इस मामले में टांग अड़ाते.”

“वह सब ठीक है,” मैं ने जवाब दिया. पर यदि कोई इस विज्ञापन का जवाब देता है, तो मेरे पास कोई अंगूठी नहीं है.”

“है कैसे नहीं, बिलकुल है तुम्हारे पास.” उस ने मुझ को एक अंगूठी देते हुए कहा. “यह बिलकुल ठीक रहेगी. यह बिलकुल उसी जैसी अंगूठी है.”

“और तुम क्या सोचते हो कि इस विज्ञापन का जवाब कौन देगा?”

“क्यों, भूरे कोट वाला आदमी देगा-हमारा लाल चेहरे वाला दोस्त जिस के चौकोर पंजे हैं. अगर वह अपनेआप नहीं आता, तो वह अपने किसी साथी को भेजेगा.”

“क्या उस को, ऐसा करना खतरनाक नहीं लगेगा?”

“बिलकुल भी नहीं. अगर इस मामले पर मेरा नजरिया सही है और इस को सही समझने के मेरे पास कई कारण हैं, तो यह आदमी अंगूठी खोने से अच्छा और कुछ भी खो देने का जोखिम उठाएगा. मेरे खयाल से, इस ने यह तब खोया था जब वह ड्रेबर की लाश पर झुका हुआ था और तब इसे पता नहीं चला था. घर सेजाने के बाद इस को समझ में आया और यह जल्दी से वापस आया. पर आने के बाद उस ने देखा कि पुलिस पहले से ही पहुंची हुई है, क्योंकि इस ने मोमबत्ती जलती रहने देने की गलती कर दी थी.

“फिर उसे शराबी होने का नाटक करना पड़ा, जिस से गेट पर उस की मौजूदगी से किसी तरह का शक पैदा न हो. अब अपने को उस आदमी की जगह रख कर देखो. इस मामले पर फिर से गौर करने पर उस को उसे ऐसा लगा होगा कि यह हो सकता है कि उस से अंगूठी सड़क पर कहीं गिर गई हो. फिर वह क्या करता? फिर वह शाम के अखबारों को उत्सुकता से पढ़ता, इस उम्मीद में कि शायद ‘पाया’ वाली जगह में उस का जिक्र हो. उस की आंखें बेशक इस पर पड़तीं. वह फूला नहीं समाता. उसे इस में कोई साजिश क्यों नजर आती? उस की नजर में कोई ऐसा कारण नहीं होता कि इस अंगूठी का पाया जाना किसी भी तरह हत्या से ताल्लुक रखता होगा. वह जरूर आता. वह जरूर आएगा. एक घंटे के अंदर तुम उस को देख लोगे.”

“और फिर?” मैं ने पूछा.

“और उस से निपटने के लिए मैं काफी हूं. क्या तुम्हारे पास कोई हथियार है?”

“मेरे पास मेरी पुरानी सर्विस रिवॉलवर और कुछ कारतूस हैं.”

“तुम उस को साफ कर के लोड कर लो. वह बौखलाया हुआ होगा और हालांकि मैं अचानक उस परहावी हो जाऊंगा, बेहतर यही होगा कि हम पूरी तरह सतर्क रहें और हर स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहें.”

मैं अपने बेडरूम में गया और उस की सलाह पर अमल किया. जब मैं पिस्तौल ले कर लौटा, मेज साफ हो चुकी थी और होम्स अपना समय वायलिन बजा कर बिता रहा था.

“कहानी गहराती जा रही है,” मैं ने जब अंदर प्रवेश किया, तब उस ने कहा, “मुझे अपने अमरीकी तार का अभीअभी जवाब मिला है. इस मामले में मेरी राय बिलकुल सही है.”

“और वह क्या है?” मैं ने उत्सुकता से पूछा.

“मेरे वायलिन में नए तार लगाने हैं,” वह बोला, “पिस्तौल अपनी जेब में रख लो. जब वह व्यक्ति आए, उस से साधारण तरीके से बात करना. बाकी सब मेरे ऊपर छोड़ दो. उस को ज्यादा कड़ी नजर से मत देखना, नहीं तो वह डर जाएगा.”

“इस वक्त आठ बज रहे हैं,” घड़ी पर नजर डालते हुए मैं ने कहा.

“हां, शायद वह कुछ ही मिनटों में यहां आ जाएगा. दरवाजा थोड़ा सा खोल दो. हां, इतना ठीक है. अब चाबी अंदर लगा दो. थैंक्यू! यह एक अजीब सी किताब है जो मैं ने कल एक दुकान से ली थी, दि ज्यूरे इंटर जेंटिस. यह लैटिन भाषा में लोलेंड के लीज में लिखी गई थी, 1642 में. चार्ल्स का सिर तब भी उस के धड़ सेलगा हुआ था, जब इस छोटी सी भूरीकाली किताब पर रोक लगाई गई थी.”

“इस का प्रकाशक कौन है?”

“फिलिप डि क्रोय, वह जो कोई भी रहा हो. उस के पहले पन्ने पर बहुत धुंधली स्याही से लिखा है-एक्सलिबरिस गुलीलमी ह्वाइट. पता नहीं, यह विलियम ह्वाइट आखिर कौन था. शायद सत्रहवीं शताब्दी का कोई चतुर वकील था. उस के लेखन में कानूनी दांवपेंच है. यह लो, शायद हमारा आदमी भी आ रहा है.”

जब वह बोल रहा था, तभी जोर से घंटी बज उठी. शरलॉक होम्स ने तेजी से दरवाजे की ओर अपनी कुरसी मोड़ ली. हम ने नौकरानी को हॉल से गुजरते हुए सुना और चटखनी की तेज खटाक की आवाज से उस ने दरवाजा खोल दिया.

“क्या डाक्टर वॉटसन यहीं रहते हैं?” एक स्पष्ट पर कर्कश आवाज ने पूछा. हम नौकरानी का जवाब नहीं सुन पाए, पर दरवाजा बंद हुआ और कोई सीढ़ियों के ऊपर चढ़ने लगा. पैरों की आहट अनिश्चित और लड़खड़ाती सी थी. उस को सुनते हुए मेरे मित्र के चेहरे पर ताज्जुब का भाव था. वह धीरेधीरे गलियारे तक आया और फिर दरवाजे पर हलकी सी थपथपाहट हुई.

“अंदर आ जाओ,” मैं बोल पड़ा. मेरे पुकारने पर हमारी आशा के विपरीत, बजाए उस हिंसक आदमी के जिस की हम ने कल्पना की थी, एक बहुत बूढ़ी, झुर्रीदारऔरत ने अपार्टमेंट में प्रवेश किया. अचानक हुई रोशनी की चकाचौंध से वह चौंधियांई हुई जान पड़ी और हलका सा अभिवादन करने के बाद वह हमारी ओर पलकें झपकाती, अपनी घबराई हुई कंपकपाती अंगुलियों से अपनी जेब टटोलने लगी. मैं ने अपने मित्र की ओर देखा और उस के चेहरे पर ऐसे निराशा के भाव थे कि मेरी कुछ समझ में नहीं आया.

बूढ़ी औरत ने शाम का अखबार निकाला और हमारे विज्ञापन की ओर इशारा किया. “भले लोगो, यह विज्ञापन ही मुझे यहां तक लाया है,” फिर से अभिवादन करते हुए वह बोली, “ब्रिक्सटन रोड पर सोने की अंगूठी, वह मेरी बेटी सैली की है, जिस की बारह महीने पहले ही शादी हुई है और जिस का पति एक यूनियन बोट पर कारिंदा है और मैं सोच भी नहीं सकती कि वापस आने पर अपनी पत्नी के पास अंगूठी न पा कर वह क्या कहेगा. क्योंकि वैसे भी आमतौर पर वह गुस्से से बौखलाया रहता है, खास कर जब वह नशे में होता है. अगर आप को जान कर कोई खुशी होनी है, तो पिछली रात वह सर्कस देखने गई थी-”

“क्या यह उस की अंगूठी है?” मैं ने पूछा.

बुढ़िया बोल पड़ी, “आज रात सैली एक बेहद खुश महिला होगी, यही वह अंगूठी है.”

“और तुम्हारा पता क्या है?” मैं ने पेंसिल उठाते हुए तहकीकात की.

“13, डंकन स्ट्रीट, हाउंड्सडिच. यहां से थोड़ी दूरीपर है.”

“ब्रिक्सटन रोड किसी भी सर्कस और हाउंड्सडिच के बीच में नहीं पड़ती,” शरलॉक होम्स ने तल्खी से कहा.

बूढ़ी औरत ने मुड़ कर उस की ओर गौर से देखा, “इस भले आदमी ने मुझ से मेरा पता पूछा था,” वह बोली. “सैली का घर 3, मेफील्ड, पैलेस, पेकहम में है.”

“और तुम्हारा नाम?”

“मेरा नाम है सॉयर, उस का है डेनिस, क्योंकि उस के साथ टॉम डेनिस ने शादी की है और वह काफी स्मार्ट और साफ लड़का है. जब वह समुद्र पर रहता है, तो उस जैसा कोई नहीं है. पर जब वह तट पर होता है, तो इतनी औरतें और इतनी शराब की दुकानें.”

“यह रही तुम्हारी अंगूठी, मिसेज सॉयर,” अपने मित्र के इशारे पर मैं ने उस को टोका. “जाहिर है कि यह तुम्हारी बेटी की ही है और मुझे खुशी है कि मैं ने इस को इस के सही हकदार तक पहुंचा दिया है.”

ढेर सारे आशीष बुदबुदाती हुई और अपनी कृतज्ञता प्रकट करती बूढ़ी औरत ने उस को अपनी जेब में रख लिया और सीढ़ियों के नीचे उतर गई. जैसे ही वह गई, शरलॉक होम्स लपक कर उठा और तेजी से अपने कमरे में गया. कुछ ही पलों में एक ओवरकोट और टोप पहने वह वापस आया. जल्दी से उस ने कहा, “मैं उस का पीछा करूंगा. वह उस की साथी होगी और इस का पीछा कर के मैं अपराधी तक पहुंच जाऊंगा. मेरे लिए जागते रहना.”
हाल का दरवाजा हमारी मेहमान के जाने पर बंद हुआ भर था. जब होम्स सीढ़ियों के नीचे उतरा, खिड़की से मैं ने बूढ़ी औरत को धीरेधीरे दूसरी ओर चलते हुए देखा, जबकि उस का पीछा करने वाला थोड़ी सी दूरी पर उस का पीछा कर रहा था. ‘या तो इस का पूरा अंदाजा गलत है,’ मैं ने सोचा, ‘या फिर यह रहस्य की तह तक जा पहुंचेगा.’ उसे मुझ से यह कहने की कोई जरूरत नहीं थी कि मैं जागता रहूं, क्योंकि मुझे लगा कि उस के कारनामे का नतीजा जाने बगैर मेरे लिए सो जाना नामुमकिन था.

जब वह बाहर के लिए निकला था, उस वक्त करीब नौ बज रहे थे. मुझे इस बात का कोई अंदाजा नहीं था कि उस को कितनी देर लगेगी, पर मैं अपना पाईप पीते और हेनरी मुरगर की ‘वाई दि बोहिम’ के पन्ने पलटते हुए समय गुजारने लगा. दस बज गए और मैं ने नौकरानी के कदमों की आहट को उस के बिस्तर तक जाते हुए सुना. ग्यारह बजे और मकान मालकिन के कदमों की रोबीली आहट अपने बिस्तर तक जाती सुनाई पड़ी. दरवाजा खुलने की चाबी की आवाज सुनाई पड़ी तो करीब बारह बज रहे थे. जैसे ही वह अंदर घुसा, मैं उस का चेहरा देखते ही समझ गया कि वह सफल नहीं हो पाया है. उस के चेहरे पर हंसी और निराशा के मिलेजुले भाव थे और फिर वह अचानक जोर से हंस पड़ा.

“मैं किसी भी कीमत पर स्कॉटलैंड यार्ड वालों को यह बात नहीं जानने दूंगा,” कुरसी पर ढेर होते हुए वहबोला, “मैं ने उन को इतना तंग कर रखा है कि वे मेरा मजाक उड़ातेउड़ाते कभी नहीं ऊबेंगे. मैं इसलिए हंस सकता हूं क्योंकि मैं जानता हूं कि आखिर में मैं उन से हिसाब चुकता कर ही लूंगा.”

“आखिर बात क्या है?” मैं ने पूछा.

“ओह, अपने खिलाफ जाने वाली कहानी सुनाने में मुझे कोई एतराज नहीं,” वह थोड़ी दूर गई और फिर लंगड़ाने लगी और ऐसा लगा कि उस के पैरों में छाले पड़ गए हैं. फिर वह रुक गई और गुजरती हुई गाड़ी को रोका. मैं उस के इतने पास तक आ गया था कि मैं पता सुन सकूं, पर मुझे फिक्र करने की कोई जरूरत नहीं थी, क्योंकि उस ने इतनी जोर से अपना पता बताया कि सड़क के उस पार भी सुनाई दे जाए: 13, डंकन स्ट्रीट, हाउंड्सडिच तक ले चलो.” वह बोली. ‘यह तो सब सच्चा जान पड़ रहा है,’ मैं ने सोचा और जब वह पूरी तरह अंदर बैठ गई, तो मैं भी गाड़ी के पीछे छिप गया. यह ऐसी कला है, जिस में हर जासूस को महारत हासिल होनी चाहिए. फिर हम खड़खड़ाते हुए चले और तब तक नहीं रुके जब तक हम उस सड़क तक पहुंच नहीं गए.

दरवाजा आने से पहले ही मैं गाड़ी से कूद गया और सड़क पर ऐसे ही टहलने लगा. मैं ने गाड़ी को रुकते हुए देखा. कोचवान नीचे कूदा और उम्मीद में खड़ा रहा. पर गाड़ी में से कुछ नहीं निकला. जब मैं उस के पास पहुंचा, वह गाड़ी के अंदर हड़बड़ाहट में कुछ टटोल रहा था और ऐसीऐसी गालियां दे रहा था जैसी मैं ने शायद ही पहलेकभी सुनी हों. उस की सवारी का कोई नामोनिशान नहीं था और उस को अपना किराया मिलने की कोई उम्मीद नहीं दिखाई दे रही थी.

नंबर 13 पर पता करने पर हम ने पाया कि वह घर एक संभ्रात कागज के व्यापारी, केसविक का था और वहां पर किसी ने कभी न तो सॉयर और न ही डेनिस का नाम सुना था.

“तुम्हारा कहने का मतलब कहीं यह तो नहीं,” मैं ने आश्चर्य से कहा, “कि वह लड़खड़ाती कमजोर बुढ़िया औरत चलती गाड़ी से कूद गई और न तुम और न ही कोचवान उस को देख पाया?”

“बूढ़ी औरत गई भाड़ में,” शरलॉक होम्स ने कहा. “बूढ़ी औरतें तो हम लोग थे, जो उस के झांसे में आ गए. वह कोई जवान आदमी रहा होगा, जो काफी फुरतीला भी था और साथ ही बेजोड़ अभिनेता भी. उस का मेकअप भी कमाल का था. उस ने निस्संदेह देख लिया था कि उस का पीछा हो रहा है और मुझे झांसा देने का उस ने यह तरीका अपनाया. यह दर्शाता है कि जिस आदमी की हमें तलाश है, वह उतना अकेला नहीं है जितना मैं उसे समझ रहा था, पर उस के साथ ऐसे मित्र हैं, जो उस के लिए खतरा मोल ले सकते हैं. डाक्टर, तुम थके हुए लग रहे हो, मेरी राय मानो तो जा कर सो जाओ.”

मैं वास्तव में बहुत थकान महसूस कर रहा था, इसलिए मैं ने यह बात मान ली. मैं ने होम्स को उसजलती आग के पास बैठा छोड़ा और देर रात मैं ने उस के वायलिन की गमगीन धुनें सुनीं और मैं जान गया कि वह अब भी उसी विचित्र समस्या के बारे में सोच रहा है जिस को सुलझाने की उस ने ठानी थी.

अगले दिन के अखबार ‘ब्रिक्सटन रहस्य’ से भरे हुए थे. हरेक में वारदात का लंबा जिक्र था और कुछ में उस पर विशेष टिप्पणियां भी थीं. उन में कुछ जानकारियां ऐसी थीं, जो मेरे लिए नई थीं. अब भी मेरी किताब में इस मामले से संबंधित अनेक कतरनें लगी हुई हैं. इन में से कुछ का सारांश इस प्रकार है.

‘डेली टेलीग्राफ’ ने टिप्पणी की कि जुर्म के इतिहास में शायद ही कभी इतनी विचित्र त्रासदी घटी हो. मृतक का जर्मन नाम, किसी भी मंशा का अभाव और दीवार पर खौफनाक लिखावट, सभी आंदोलनकारी राजनैतिक शरणार्थियों की ओर इशारा करती हैं. समाजवादियों की कई शाखाएं अमरीका में हैं और निस्संदेह मृतक ने उन के अनलिखे कानूनों को तोड़ा था और वे उसे ढूंढ़तेढूंढ़ते उस तक आ पहुंचे थे. वेमगेरिट, अक्वा टोफाना, कारबनारी, मार्कियोनेस दि ब्रिनविलयर्स, डारविन के सिद्धांत, माल्थस के सिद्धांत और रैटक्लिफ हाइवे हत्याओं की ओर इशारा करने के बाद, इस लेख में अंत में सरकार को फटकार लगाई गई थी और सलाह दी गई थी कि इंगलैंड में विदेशियों पर नजर रखी जाए.

‘स्टैंडर्ड’ ने इस तथ्य पर टिप्पणी की कि उदार सरकार के नीचे अकसर इस तरह की गैर कानूनी हरकतें होती रहती हैं. इस से आम जनता के मन अस्थिर हो उठते हैं और सारी प्रशासन व्यवस्था अस्तव्यस्त हो जातीहै. मृतक अमरीकी भला आदमी था, जो कुछ हफ्तों से महानगर में रह रहा था. वह कैंबरवेल के टोरके टेरेस में उस की मैडम शारपेंटियर के बोर्डिंग हाउस में रहता था. उस की यात्राओं में उस का निजी सेक्रेटरी मिस्टर जोसफ स्टेंजरसन उस के साथ रहता था. उन दोनों ने अपनी मकान मालकिन से मंगलवार 4 तारीख को विदा ली और लिवरपूल एक्सप्रेस पकड़ने के ठोस विचार से यूस्टन स्टेशन के लिए रवाना हुए. उस के बाद उन दोनों को एक साथ प्लेटफार्म पर देखा गया था.

उन के बारे में किसी को और कोई जानकारी नहीं थी, जब यूस्टन से कई कि. मी. दूर, ब्रिक्सटन रोड पर एक खाली घर में मिस्टर ड्रेबर की लाश पाई गई. वह वहां कैसे पहुंचा या उस का अंत कैसे हुआ, ये प्रश्न अब भी रहस्य बने हुए हैं. स्टेंजरसन के बारे में कुछ भी नहीं मालूम. हमें यह जान कर खुशी है कि स्कॉटलैंड यार्ड के मिस्टर लेस्ट्रेड और मिस्टर ग्रेगसन दोनों ही इस केस में लगे हुए हैं और यह विश्वास किया जा रहा है कि ये जानेमाने अफसर जल्दी ही इस मामले पर प्रकाश डालेंगे.

‘डेली न्यूज’ ने लिखा है कि इस में कोई शक नहीं कि यह अपराध राजनैतिक है. लिबरल सरकार की तानाशाही और नफरत, जिस से महाद्वीप की सरकारें उत्तेजित हैं, उस के प्रभाव से हमारे तटों पर बड़ी संख्या में ऐसे लोग आ गए हैं जो अच्छे नागरिक साबित होते, यदि उन के पास उन घटनाओं की कड़वी यादें नहींहोतीं, जो उन के ऊपर बीती थीं. इन लोगों में कड़ा अनुशासन था, जिस में जरा सी ढील की सजा मौत थी. सेक्रेटरी स्टेंजरसन को ढूंढ़ने का हर संभव प्रयत्न किया जाना चाहिए और मृतक की कुछ आदतों का पता लगाना चाहिए. जो घर उस ने किराए पर लिया था, उस के बारे में पता लगा लिए जाने से एक बड़ा कदम उठाया गया है. जिस का पूरा श्रेय स्कॉटलैंड यार्ड के मिस्टर ग्रेगसन की चतुराई और स्फुर्ति को जाता है.

शरलॉक होम्स और मैं ने इकट्ठे इन नोटिसों को नाश्ते के वक्त पढ़ा और ऐसा लग रहा था कि इन्हें पढ़ कर उस का काफी मनोरंजन हुआ है.

“मैं ने तुम को बताया था कि कुछ भी हो, लेस्ट्रेड और ग्रेगसन का पलड़ा भारी रहेगा.”

“वह तो इस पर निर्भर करता है कि केस किस ओर मुड़ता है.”

“ओह, इस से कोई फर्क नहीं पड़ता. अगर अपराधी पकड़ा जाता है, तो यह उन की कोशिशों की वजह से होगा. अगर वह निकल भागता है, तो भी इन की कोशिशों के बावजूद, चित्त भी मेरी, पट भी मेरी. वे कुछ भी करें, उन की तारीफ होगी ही.”

“अरे बाप रे, यह क्या है?” मैं चिल्लाया क्योंकि इसी क्षण हाल में और सीढ़ियों पर कई पैरों के भागने की आवाज आई और इस के साथ ही हमारी मकानमालकिन की नाराजगी भी सुनाई पड़ी.

“मेरे मित्र ने गंभीरता से कहा, यह खुफिया पुलिसबल की बेकर स्ट्रीट शाखा है.” वह बता ही रहा था कि कमरे में आधा दर्जन सड़की अरब घुस आए जो इतने गंदे और मैलेकुचैले थे, जितने मैं ने पहले कभी नहीं देखे थे.

“अटेंशन (सावधान)!” शरलॉक होम्स ने कड़ाई से कहा और छह गंदे आवारा एक लाइन में मूर्तियों की तरह खड़े के खड़े रह गए, “आइंदा से रिपोर्ट करने के लिए तुम अकेले विगिंस को भेजोगे और बाकी तुम सब सड़क पर इंतजार करोगे. क्या तुम को मिल गया, विगिंस?”

“नहीं सर, हमें नहीं मिला,” एक युवक बोला, “मुझे उम्मीद भी नहीं थी कि तुम को वह मिल सकेगा, जब तक तुम्हें मिल नहीं जाता तुम्हें तलाश जारी रखनी होगी. यह रखो अपनी आमदनी,” उस ने हरेक को एक एक शिलिंग पकड़ाई. “अब तुम लोग यहां से दफा हो जाओ और अगली बार आओ तो इस से अच्छी खबर लाना.”

उस ने अपना हाथ हिलाया और वे चूहों की तरह नीचे भागे और हम ने अगले पल उन की तीखी आवाजें सड़क से आती हुई सुनीं.

“पुलिस के दरजनभर आदमियों से कहीं ज्यादा काम इन छोटे भिखमंगों से निकाला जा सकता है,” होम्स ने टिप्पणी की, “किसी अधिकारी को देखते ही लोगों के होंठों पर ताला लग जाता है. ये छोटे बच्चे हर जगह जाते हैं और हर बात सुनते हैं. ये सूइयों की तरह पैने होते हैं. इन को बस संगठन की जरूरत है.”

“क्या ब्रिक्स्टन मामले के लिए इन लोगों को नियुक्त किया है?” मैं ने पूछा.

“हां, एक मुद्दा है जो मैं साबित करना चाहता हूं. यह कुछ ही समय की बात है. हेलो! हमें कुछ सुनाई पड़ने वाला है! सड़क पर ग्रेगसन आ रहा है और उस के पूरे चेहरे पर परम आनंद के भाव हैं. मैं जानता हूं कि वह मेरी ओर ही आ रहा है. हां, वह रुक रहा है. देखो, वह वहां पर है!”

घंटी जोर से बज उठी और कुछ पलों में वह उजले बालों वाला जासूस तीन सीढ़ियां एक बार में चढ़ता ऊपर आया और हमारे सीटिंगरूम में आंधी की तरह प्रकट हुआ.

“माई डियर फेलो,” होम्स का हाथ पकड़ कर वह बोला, “मुझे बधाई दो. मैं ने पूरा मामला दिन के उजाले की तरह स्पष्ट कर लिया है.”

मुझे लगा कि मेरे मित्र के भावपूर्ण चेहरे पर चिंता की परछाईं उभरी.

“क्या तुम्हारा मतलब है कि तुम सही रास्ते पर हो?” उस ने पूछा.

“सही रास्ता! सर, हम ने मुजरिम को कैद भी कर लिया है.”

“और उस का नाम है?”

“आर्थर शारपेंटियर, हर मेजिस्टी की जलसेना में सब-लेफ्टिनेंट है.” ग्रेगसन ने घमंड से अपने मोटे हाथों को रगड़ते और छाती चौड़ी करते हुए कहा.
शरलॉक होम्स ने राहत की सांस ली और उस के चेहरे पर मुसकान फैल गई.

“बैठो और एक सिगार का मजा लो,” वह बोला. “हम यह जानने के लिए उत्सुक हैं कि तुम ने यह काम कैसे कर डाला. क्या तुम ह्विस्की और पानी लेना चाहोगे?”

“मुझे लेने में कोई एतराज नहीं.” जासूस ने जवाब दिया. “पिछले एक दो दिनों से मैं इतनी कड़ी मेहनत कर रहा हूं कि मैं बिलकुल थक गया हूं. शारीरिक तो नहीं, पर मानसिक दबाव की वजह से. तुम यह बात जरूर समझ सकोगे, शरलॉक होम्स, क्योंकि हम दोनों ही बुद्धिजीवी हैं.”

“तुम मुझे कुछ ज्यादा ही इज्जत दे रहे हो,” होम्स ने गंभीरता से कहा. “हम सुनना चाहते हैं कि तुम इस संतोषजनक नतीजे पर कैसे पहुंचे.”

जासूस आरामकुरसी में धंस गया और सब्र से सिगार के कश लेने लगा. फिर अचानक उस ने किसी मनोरंजक खयाल से अपनी जांघ पर हाथ मारा.

“सब से मजे की बात यह है,” वह बोला, “वह बेवकूफ लेस्ट्रेड जो अपने को इतना होशियार समझता है, बिलकुल ही गलत पटरी पर जा रहा है. वह सेक्रेटरी स्टेंजरसन के पीछे पड़ा है जिस का इस जुर्म से उतना ही लेनादेना है, जितना किसी अजन्मे बच्चे का. मुझे कोई शक नहीं कि उस ने अब तक उस को हिरासत में भी ले लिया होगा.”

इस खयाल से ग्रेगसन को इतनी ज्यादा हंसी आई कि वह तब तक हंसता रहा, जब तक उस का दम नहीं घुटने लगा.

“और तुम को यह अंदाज कैसे लगा?”

“आह, मैं तुम को पूरी बात बताता हूं. हां, यह जरूर है, डाक्टर वॉटसन, कि यह बात हम लोगों के बीच ही रहनी चाहिए, सब से पहली कठिनाई जिस का हमें सामना करना पड़ा, वह थी इस अमरीकी की पिछली जिंदगी के बारे में पता लगाना. कुछ लोग तब तक इंतजार करते जब तक उन के विज्ञापनों का जवाब नहीं आ जाता या जब तक कुछ लोग आगे आ कर सब जानकारी नहीं देते. पर यह टोबियास ग्रेगसन के काम का तरीका नहीं है. तुम्हें याद है वह हैट जो मृतक के पास पड़ा था?”

“हां,” होम्स ने कहा, “जॉन अंडरवुड एंड संस, 129, केंबरवेल रोड, द्वारा निर्मित.”

ग्रेगसन काफी निराश लगा.

“मुझे नहीं पता था कि तुम ने इस बात पर गौर किया,” वह बोला, “क्या तुम वहां जा चुके हो?”

“नहीं.”

“हां!” ग्रेगसन बोल पड़ा, एक राहत भरी आवाज में. “तुम को कभी भी कोई ऐसा मौका नहीं खोना चाहिए, चाहे वह कितना भी छोटा क्यों न हो.”

“महान बुद्धि वाले के लिए कुछ भी छोटा नहीं होता,” होम्स ने कहावत के अंदाज में टिप्पणी की.

“खैर, मैं अंडरवुड के पास गया और उस से पूछा कि क्या उस ने इस नाप और वर्णन का हैट बेचा है, उस ने अपनी किताबों में देखा और तुरंत उस तक पहुंच गया. उस ने वह हैट मिस्टर ड्रेबर को भेजा था, जो टॉरके टेरेस में शारपेंटियर के किराए के कमरों में रहता है, इस तरह मुझे उस का पता मिला.”

“स्मार्ट–बहुत स्मार्ट,” शरलॉक होम्स बुदबुदाया, “उस के बाद मैं ने मैडम शारपेंटियर से मुलाकत की.” जासूस बोले जा रहा था. “मैं ने देखा कि वह एकदम पीली और परेशान थी, उस की बेटी भी उसी कमरे में थी–वह भी एक असाधारण और अच्छी लड़की है–उस की आंखें लाल थीं और जब मैं उस से बात कर रहा था, तो उस के होंठ कांप रहे थे, यह बात मुझ से छिप नहीं सकी. मुझे कुछ गड़बड़ी महसूस हुई. वह एहसास, तुम जानते हो मिस्टर शरलॉक होम्स, जब तुम सही दिशा में होते हो–तुम्हारी रगरग में एक रोमांच सा होता है. क्या तुम ने अपने पुराने किराएदार मिस्टर एनोच ड्रेबर, क्लीवलैंड वालों की रहस्यमयी मौत के बारे में सुना है?” मैं ने पूछा.

“मां ने ‘हां’ में सिर हिलाया. वह एक शब्द भी नहीं बोल पा रही थी. बेटी फूटफूट कर रो पड़ी. मुझे लग रहा था कि ये लोग इस मामले के बारे में जरूर कुछ जानती हैं.”

“ट्रेन पकड़ने के लिए मिस्टर ड्रेबर तुम्हारे घर से कितने बजे निकला था?” मैं ने पूछा.

“आठ बजे,” अपनी बेचैनी को छुपाने के लिए थूकसटकते हुए वह बोली, “उस के सेक्रेटरी मिस्टर स्टेंजरसन ने कहा कि दो ट्रेनें थीं–एक सवा नौ बजे और एक ग्यारह बजे. उस को पहली वाली ट्रेन पकड़नी थी.”

“और क्या यही तुम ने उसे आखिरी बार देखा था?”

“औरत के चेहरे पर विद्रूपता छा गई, जब मैं ने उस से यह प्रश्न पूछा. उस का चेहरा स्याह पड़ गया. उस के मुंह से एक ‘हां’ निकलने में कुछ क्षण बीत गए और जब वह निकला, तो अजीब से अंदाज में. क्षणभर के लिए चुप्पी छाई गई और फिर शांत, साफ आवाज में बेटी बोली, “झूठ से कभी कुछ अच्छा नहीं हो सकता, मां! इस भले आदमी से हमें खुल कर बात करनी चाहिए. हम ने मिस्टर ड्रेबर को फिर से देखा था.”

मैडम शारपेंटियर फिर से अपनी कुरसी में धंस गई. “तुम ने अपने भाई को मार डाला है.”

“आर्थर यही पसंद करता कि हम सच बोलें,” लड़की ने दृढ़ता से कहा.

“सब से अच्छा तो यही होगा कि तुम इस के बारे में मुझ को अभी बताओ,” मैं ने कहा. “अधूरी बात कबूलना कुछ नहीं कबूलने से ज्यादा बुरा है. इस के अलावा, तुम्हें नहीं मालूम कि हम को इस मामले के बारे में कितना ज्यादा मालूम है.”

“अब इस का जिम्मा तुम अपने सिर पर आने दो, एलिस!” उस की मां ने कहा और फिर मेरी ओर रुख कर के बोली, “मैं आप को सारी बात बताती हूं, सर. यह मत सोचिए कि मैं अपने बेटे के लिए इसलिए डर रही हूंकि उस का इस अपराध में कोई हाथ है. वह बिलकुल निर्दोष है. फिर भी, मुझे यह डर है कि आप की नजरों में और दूसरों की नजरों में वह इस अपराध का भागीदार दिखाई देगा. पर वह एकदम नामुमकिन है. उस का ऊंचा चरित्र, उस का पेशा, उस की पहले की जिंदगी उस को ऐसा कभी नहीं होने देंगे.”

“तुम्हारे लिए सब से अच्छा यही होगा कि तुम सारे तथ्यों को ईमानदारी से सामने लाओ,” मैं ने जवाब दिया. “निश्चिंत रहो, अगर तुम्हारा बेटा बेकसूर है, उस को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा.”

“एलिस, शायद अच्छा रहेगा कि तुम हमें अकेला छोड़ दो,” उस ने कहा और उस की बेटी वहां से चली गई. “अब, सर,” वह आगे बोली, “मेरा कोई इरादा नहीं था कि आप को यह सब बताऊं, पर जैसा मेरी बेचारी बेटी ने खुलासा किया है, मेरे पास अब और कोई चारा नहीं है. अब एक बार बोलने का फैसला ले लेने के बाद, मैं आप को बगैर कोई बात छुपाए सारी बात बता दूंगी.”

“यही तुम्हारे लिए सब से बड़ी अक्लमंदी का रास्ता होगा.”

“मिस्टर ड्रेबर हमारे साथ करीब तीन हफ्तों तक रहा. वह और उस का साथी मिस्टर स्टेंजरसन महाद्वीप की यात्रा कर रहे थे. मैं ने उन दोनों के बक्सों पर ‘कोपनहेगन’ लिखा देखा था, जिस से पता चलता है कि आखिरी बार वे लोग वहीं रुके थे. स्टेंजरसन शांत, शर्मीला आदमी था, पर मुझे अफसोस के साथ कहनापड़ रहा है कि उस का मालिक उस से बिलकुल अलग था. उस की आदतें फूहड़ थीं और हरकतें क्रूरता वाली. जिस रात वे यहां आए, उसी रात वह नशे में बिलकुल धुत हो गया और दिन में बारह बजे के बाद वह शायद ही कभी बगैर नशे में धुत पाया गया हो. घर की नौकरानियों के प्रति उस का रवैया कुछ ज्यादा ही खुला हुआ था. सब से बुरी बात तो यह हुई कि जल्दी ही उस ने यह रवैया मेरी बेटी एलिस के प्रति भी अपना लिया और कई बार उस से ऐसीवैसी बात कही, जो वह अपने भोलेपन में समझ नहीं सकी. एक बार तो उस ने उस को अपनी बांहों में भर लिया, इस बेहूदा हरकत के कारण उस के सेक्रेटरी तक ने उस को डांटा था.”

“पर आप ने यह सब क्यों सहा?” मैं ने पूछा, “मैं समझता हूं कि आप जब चाहें, अपने किराएदारों को हटा सकती हैं.”

“मेरे धृष्ट सवालों को सुन कर मैडम शारपेंटियर का चेहरा लाल पड़ गया.

“मैं तो उस को उसी दिन नोटिस भिजवा देती, जिस दिन वह आया था,” वह बोली, “पर मेरे सामने बहुत बड़ा लालच था. रोजाना वे प्रति व्यक्ति के हिसाब से एक पाउंड देते थे, यानी हफ्ते के चौदह पाउंड और यह समय मंदी का चल रहा है. मैं विधवा हूं और नेवी में अपने बेटे के ऊपर मैं ने बहुत खर्चा किया है. मैं यह पैसा खोना नहीं चाह रही थी. मैं ने जो किया, अच्छे के लिए किया. पर यह आखिर हरकत बरदाश्त के बाहर हो गई, जिसकी वजह से मैं ने उस को कमरा खाली करने का नोटिस दे दिया. उस के जाने का यही कारण था.”

“और?”

“उस को ड्राइव कर के जाते देख मेरा दिल हलका हो गया. अभी मेरा बेटा छुट्टी पर है, पर मैं ने उस को यह बात नहीं बताई. क्योंकि उस का गुस्सा बहुत तेज है और वह दीवानगी से अपनी बहन से प्यार करता है, जब उन के जाने के बाद मैं ने दरवाजा बंद किया, तो मेरे सिर से एक बोझ उतर गया. पर एक घंटे से भी कम समय में दरवाजे पर फिर से घंटी बजी और मुझे पता चला कि ड्रेबर वापस आ गया है. वह बहुत उत्तेजित था, क्योंकि वह नशे में था. वह जबरदस्ती कमरे में घुस आया, जहां मैं अपनी बेटी के साथ बैठी थी और कुछ अस्पष्ट से तरीके से कहा कि उस की ट्रेन छूट गई है. फिर वह एलिस की ओर मुड़ा और मेरे सामने ही उस से प्रस्ताव रखा कि वह उस के साथ चले. “तुम अब वयस्क हो गई हो,” उस ने कहा, “और कोई कानून तुम को रोक नहीं सकता. मेरे पास काफी पैसा है जो मैं तुम्हारे ऊपर लुटा सकता हूं. इस बूढ़ी का खयाल मत करो, और फौरन मेरे साथ चली चलो. तुम एक राजकुमारी की तरह रहोगी.” एलिस बेचारी इतनी डर गई कि वह उस से दूर हट गई, पर उस ने उस की कलाई को पकड़ कर घसीटा और दरवाजे तक ले जाने की कोशिश की. मैं चिल्लाई और उसी वक्त मेरा बेटा आर्थर कमरे में दाखिल हुआ.

उस के बाद क्या हुआ, मुझे नहीं मालूम. मैं नेगालियों और कसमों और आपस में गुत्थमगुत्था होने की आवाजें सुनीं. मैं इतनी डर गई कि मुझे अपना सिर उठाने की हिम्मत भी नहीं रही. जब मैं ने ऊपर देखा, मैं ने आर्थर को हाथ में छड़ी लिए हंसते हुए दरवाजे पर खड़ा देखा. “मैं नहीं सोचता कि यह आदमी अब हमें और तंग करेगा,” उस ने कहा. “मैं उस के पीछे जा कर देखता हूं कि वह क्या कर रहा है.” इन शब्दों के साथ उस ने अपना हैट लिया और सड़क पर चला गया. अगली सुबह हम ने मिस्टर ड्रेबर की रहस्यमय मौत के बारे में सुना.

“मैडम शारपेंटियर के मुंह से यह बात गहरी सांसों और काफी रुकरुक कर निकली. कई बार तो वह इतना धीमे बोली कि मैं शब्द सुन ही नहीं पा रहा था. मैं ने शार्टहैंड में उस का बयान दर्ज किया, जिस से गलती की कोई गुंजाइश न रहे?”

“काफी रोमांचकारी है,” शरलॉक होम्स ने जम्हाई लेते हुए कहा. “उस के बाद क्या हुआ?”

“जब मैडम शारपेंटियर रुकी,” जासूस आगे बोला, “मैं ने देखा कि पूरा केस एक ही बिंदु पर टिका है. मैं ने उस को अपनी उस नजर से देखा जो हमेशा महिलाओं को प्रभावित करती है और उस से पूछा कि उस का बेटा कितने बजे घर लौटा.”

“मैं नहीं जानती,” उस ने जवाब दिया.

“नहीं जानती?”

“नहीं. उस के पास अपनी चाबी है और उसी से वहघर में दाखिल हुआ होगा.”

“जब तुम सो चुकी थी?”

“हां.”

“तुम कितने बजे सोई थी?”

“करीब ग्यारह बजे.”

“तो तुम्हारा बेटा करीब दो घंटों तक घर नहीं आया?”

“हां.”

“शायद चार या पांच घंटे?”

“हां.”

“उस दौरान वह क्या कर रहा था?”

“मुझे नहीं मालूम.” उस ने जवाब दिया और उस के होंठ सफेद पड़ रहे थे.

“अब इस के बाद करने के लिए और कुछ भी बाकी नहीं रह गया था. मैं ने ढूंढ़ निकाला कि लेफ्टिनेंट शारपेंटियर किधर है, अपने साथ दो अफसर लिए और उस को हिरासत में ले लिया. जब मैं ने उस को कंधे पर छुआ और उस को चुपचाप हमारे साथ चलने की धमकी दी, तो उस ने लोहे की तरह मजबूती से कहा. मैं सोचता हूं कि आप मुझे उस दुष्ट ड्रेबर की मौत के सिलसिले में बंदी बना रहे हैं,” वह बोला–हम ने उस से इस बारे में कुछ भी नहीं कहा था, इसलिए उस का यह मुद्दा छेड़ना शक खड़ा करता है.

“बहुत,” होम्स ने कहा.

उस के पास उस समय भी वही लाठी थी जो उस कीमां ने बताई थी कि उस के पास थी जब वह ड्रेबर के पीछे निकला था. वह मजबूत लकड़ी की लाठी थी.

“तुम्हारा क्या खयाल है?”

“मेरा खयाल यह है कि उस ने ब्रिक्सटन रोड तक ड्रेबर का पीछा किया. वहां पहुंच कर दोनों के बीच में ताजा झड़प हुई, जिस के दौरान ड्रेबर ने लाठी की चोट खाई, शायद पेट पर, जिस ने उस को बगैर चोट के निशान के मार डाला. रात इतनी भीगी हुई थी कि आसपास कोई नहीं था, इसलिए शारपेंटियर उस खाली घर में लाश को खींचते हुए ले गया. जहां तक मोमबत्ती और खून का सवाल है और दीवार पर लिखावट और अंगूठी का, तो ये सब शायद पुलिस को चकमा देने की साजिश हो.”

“शाबाश!” होम्स ने हौसला देने के अंदाज में कहा. “वाकई ग्रेगसन, तुम बहुत बढ़िया कर रहे हो. तुम बहुत आगे बढ़ोगे.”

“मैं अपनेआप से बहुत खुश हूं कि मैं ने इतनी सफाई से सारा मामला सुलझा डाला,” जासूस ने घमंड से कहा. “वह युवक बयान देने के लिए तैयार हो गया, जिस से उस ने कहा कि कुछ देर ड्रेबर का पीछा करने के बाद ड्रेबर ने उस को देख लिया और एक कैब ले कर चला गया ताकि उस से दूर जा सके. घर के रास्ते में उस को एक पुराना साथी नाविक मिला और वह उस के साथ टहलने लगा. यह पूछे जाने पर कि उस का वह साथी नाविक कहां रहता है, वह कोई संतोषजनक जवाब नहींदे पाया. मेरे खयाल से यह पूरा मामला ठीक से सुलझ चुका है. मुझे हंसी आ रही है लेस्ट्रेड पर, जो गलत दिशा में जा कर केस सुलझाने का प्रयत्न कर रहा है. मुझे डर है वह कुछ ज्यादा नहीं कर पाएगा. क्यों, कसम से, वह तो खुद यहां पर हाजिर हो गया है.”

वास्तव में वह लेस्ट्रेड ही था जो हमारी बातचीत के दौरान सीढ़ियां चढ़ कर आया था और अब कमरे में दाखिल हो गया. पर उस की चालढाल और कपड़ों से जो आत्मविश्वास दिखता था, वह अब नजर नहीं आ रहा था. उस के चेहरे पर परेशानी थी जबकि उस के कपड़े अस्तव्यस्त और गंदे थे. साफ था कि वह शरलॉक होम्स से मशविरा लेने आया था क्योंकि अपने साथी को देख कर वह शर्मिंदा और परेशान सा नजर आया. घबराहट में वह अपने हैट को टटोलता हुआ कमरे के बीच में खड़ा था और समझ नहीं पा रहा था कि क्या करे! “यह एक अपूर्व केस है,” अंत में वह बोला, “जो बिलकुल भी समझ में नहीं आ रहा.”

“आह, ऐसा तुम को लगता है, मिस्टर लेस्ट्रेड!” विजयी भाव से ग्रेगसन बोल पड़ा. “मैं सोच रहा था कि तुम इसी नतीजे पर पहुंचोगे. क्या तुम सेक्रेटरी जोजफ एंडरसन को ढूंढ़ पाए?”

“सेक्रेटरी जोजफ एंडरसन,” लेस्ट्रेड गंभीरता से बोला, “आज सुबह लगभग छह बजे हैलीडे प्राइवेट होटल में हत्या कर दी गई.”

लेस्ट्रेड ने जो जानकारी दी, वह इतनी अप्रत्याशित थी कि हम तीनों ही स्तब्ध रह गए. ग्रेगसन अपनी कुरसी से उछल पड़ा. उस ने अपनी ह्विस्की और पानी को गिरा दिया. मैं चुपचाप देखता रहा शरलॉक होम्स को, जिस के होंठ भिंचे हुए थे और भौंहें तनी हुई थीं.

“स्टेंजरसन भी!” वह बुदबुदाया. “रहस्य गहराता जा रहा है.”

“पहले ही काफी गहरा था,” कुरसी लेते हुए लेस्ट्रेड बड़बड़ाया. “ऐसा लगता है कि मैं किसी युद्ध में फंस गया हूं.”

“इस जानकारी के बारे में तुम को पूरा यकीन है?” ग्रेगसन हकलाया.

“मैं अभीअभी उस के कमरे से आया हूं,” लेस्ट्रेड बोला. “इस घटना को देखने वाला पहला आदमी मैं ही था.”

“हम अब तक इस मामले में ग्रेगसन का नजरिया सुनते आए हैं,” होम्स ने कहा. “अगर तुम्हें आपत्ति न हो तो हमें बता सकते हो कि तुम ने क्या देखा और क्या किया?”

“मुझे कोई आपत्ति नहीं है,” बैठते हुए लेस्ट्रेड ने जवाब दिया, “मैं कबूल करता हूं कि मेरी राय थी कि ड्रेबर की मौत से स्टेंजरसन का वास्ता था. पर इस नई घटना ने मुझे दिखा दिया है कि मैं पूरी तरह गलत था. इसी एक विचार से भरा मैं यह ढूंढ़ने निकला था किसेक्रेटरी का क्या हुआ. तीन तारीख की शाम को करीब साढ़े आठ बजे उन दोनों को यूस्टन स्टेशन पर इकट्ठे देखा गया था. दो बजे सुबह ड्रेबर को ब्रिक्सटन रोड पर पाया गया था.

“मेरे सामने यह सवाल था कि साढ़े आठ बजे से ले कर कत्ल के वक्त तक स्टेंजरसन कहां था और बाद में उस का क्या हुआ. मैं ने लिवरपूल तार भेजा, उस आदमी के वर्णन के साथ और उन को चेतावनी दी कि अमरीकी नावों पर नजर रखें. फिर मैं ने यूस्टन के आसपास के सारे होटलों और धर्मशालाओं में पता किया, आप देखें, मेरा यह तर्क था कि अगर ड्रेबर और उस का साथी अलगअलग हो गए, तो उस का साथी स्वाभाविक तौर पर रात में रहने के लिए नजदीक ही कोई जगह ढूंढ़ता, जिस से सवेरे फिर आसानी से स्टेशन पहुंच सके.”

“उन्होंने शायद पहले ही कोई मिलने की जगह तय कर ली होगी.” होम्स ने टिप्पणी की.

यही साबित हुआ. मैं ने कल की पूरी शाम छानबीन में गंवा दी, पर कोई फायदा नहीं हुआ. आज सुबह मैं बहुत जल्दी काम पर लग गया और आठ बजे हैलीडे प्राइवेट होटल पहुंच गया जो लिटल जार्ज स्ट्रीट पर है. मेरे पूछने पर कि क्या वहां कोई मिस्टर स्ट्रेंजरसन रह रहा है, उन्होंने तुरंत हामी भरी.

“इस में कोई शक नहीं कि आप ही वह सज्जन हैं, जिस की वह उम्मीद कर रहे थे.” वह बोला, “वह दोदिनों से किसी का इंतजार कर रहा है.”

“अब वह कहां है?” मैं ने पूछा.

“वह ऊपर अपने बिस्तर में है. उस ने नौ बजे उठाए जाने की मांग की थी.”

“मैं ऊपर जा कर तुरंत उस से मिलूंगा,” मैं ने कहा.

“मुझे लगा कि मेरे अचानक पहुंचने पर वह घबरा जाएगा और बगैर सोचे समझे कुछ कह डालेगा. उन लोगों ने मुझे उस के कमरे तक ले जाना स्वीकार कर लिया. वह दूसरी मंजिल पर था और वहां तक पहुंचने के लिए एक छोटा सा गलियारा था. लड़के ने कमरे के दरवाजे की ओर इशारा किया और नीचे वापस जाने को था कि मैं ने कुछ ऐसा देखा कि मैं चकरा गया, जबकि मुझे बीस सालों का तजुरबा है. दरवाजे के नीचे से खून की लकीर बह रही थी जो दूसरी तरफ तक फैल गई थी. मैं चिल्ला पड़ा, जिस से वह लड़का वापस दौड़ आया. उस ने जब यह देखा, तो लगभग बेहोश हो गया.

“दरवाजा अंदर से बंद था, पर हम ने अपने कंधों से जोर लगा कर दरवाजा खोल दिया. कमरे की खिड़की खुली हुई थी और खिड़की के पास एक आदमी की लाश नाइट सूट में मुड़ी हुई पड़ी थी. वह बिलकुल मरा हुआ था. वह कुछ समय से मरा पड़ा था, क्योंकि उस के हाथपैर ऐंठ कर ठंडे पड़ चुके थे. जब उस को पलटा, तो लड़के ने फौरन उसे पहचान लिया कि यह वही सज्जन है, जिस जोजफ स्टेंजरसन के नाम से कमरा बुक किया था. मौत की वजह थी बाईं ओर छुरे का गहरा जख्म,जो शायद दिल तक पहुंच गया था. उस केस की सब से अजीब बात मारे गए आदमी के ऊपर तुम्हारे खयाल से क्या था?”

मेरे रोमरोम में झनझनाहट और आगे आने वाली भयानकता का पूर्वाभास हो चुका था, इस के पहले कि शरलॉक होम्स जवाब देता.

“खून के अक्षरों में ‘रेशे’ शब्द लिखा हुआ था.” वह बोला.

“वही था,” लेस्ट्रेड ने प्रशंसा भरी आवाज में कहा और कुछ देर के लिए हम सब चुप रह गए.

“इस अनजान हमलावर की करतूतों में कुछ ऐसा ढर्रा था जो समझ के बाहर था कि अपराधों में नई जघन्यता नजर आने लगी. मेरा दिल, जो युद्ध के मैदान में मजबूत बना रहा, अब घबरा उठा था.”

लेस्ट्रेड ने आगे कहा, “उस आदमी को देखा गया था. एक दूध वाला होटल के पीछे की गली से गुजर कर अपनी डेयरी की ओर जा रहा था. उस ने गौर किया कि एक सीढ़ी जो अकसर वहां पड़ी रहती थी, दूसरी मंजिल की एक खिड़की से लगी थी, जो पूरी तरह खुली हुई थी. वहां से गुजरने के बाद उस ने पीछे मुड़ कर देखा. उस ने देखा कि एक आदमी सीढ़ी से नीचे उतर रहा है. वह इतने धीरे और आराम से नीचे आया कि लड़के ने सोचा कि वह होटल में काम करने वाला कोई बढ़ई या कुछ होगा.

“उस ने उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया. उस नेसोचा कि अभी काम शुरू करने का समय नहीं हुआ है. उस का खयाल है कि वह आदमी लंबा था, चेहरा लाल था और उस ने लंबा सा भूरे रंग का कोट पहना था. वह हत्या के कुछ समय बाद तक कमरे में रुका रहा होगा. क्योंकि हम ने बेसिन में खून से सना पानी देखा था, जहां उस ने हाथ धोए थे और चादरों पर निशान, जिन पर उस ने जानबूझ कर छुरा पोंछा था.”

हत्यारे का वर्णन सुन कर मैं ने होम्स की ओर देखा, क्योंकि वह बिलकुल उस के द्वारा दिए गए वर्णन से मेल खाता था. फिर भी, उस के चेहरे पर खुशी या संतोष की कोई झलक नहीं थी.

“क्या तुम ने कमरे में ऐसा कुछ नहीं पाया, जो हत्या का सुराग दे सके?” उस ने पूछा.

“कुछ नहीं, स्टेंजरसन की जेब में ड्रेबर का पर्स था. पर यह कोई खास बात नहीं थी क्योंकि सारे खर्चे वही देता था. उस में लगभग अस्सी पाउंड थे, पर कुछ भी चुराया नहीं गया था. इन अजीब अपराधों के पीछे जो भी कारण हो, पर इस के पीछे लूटपाट की मंशा बिलकुल भी नहीं है. मारे गए आदमी की जेब में कोई कागजात वगैरह नहीं थे. बस, महीने भर पहले क्लीवलैंड से भेजा गया तार था जिस पर लिखा था, ‘जे. एच. यूरोप में है.’ इस संदेश के नीचे कोई नाम नहीं था.”

“और इस के सिवा कुछ भी नहीं था. ज्यादा महत्त्व का कुछ भी नहीं था. उस का उपन्यास जो उस ने रात में सोने से पहले पढ़ा था, बिस्तर पर पड़ा था और पास कीकुरसी पर उस का पाइप पड़ा था. मेज पर पानी का एक गिलास रखा था और खिड़की पर एक छोटी सी दवाई की डिबिया, जिस में दो गोलियां थीं.”

शरलॉक होम्स खुशी जाहिर करता हुआ अपनी कुरसी से उछल पड़ा.

“आखिरी कड़ी,” विजयी भाव से वह चिल्लाया. “मेरा केस पूरा हो गया है.”

दोनों जासूस चकित से उस को देखते रह गए.

“अब मेरे हाथों में,” मेरे साथी ने पूरे विश्वास से कहा, “इस उलझी हुई गुत्थी के सारे धागे हैं. यह जरूर है कि अभी भी कई बातें विस्तार से जाननी होंगी, पर स्टेशन पर ड्रेबर का स्टेंजरसन के अलग होने से ले कर उस की लाश पाए जाने तक के सारे घटनाक्रम के बारे में मैं इतना आश्वस्त हूं, मानो सारी बातें मेरी आंखों के सामने हुई हों. मैं अपनी जानकारी का सबूत देता हूं. क्या तुम उन गोलियों को अपने साथ ला पाए?”

“मेरे पास हैं,” लेस्ट्रेड ने एक छोटी सी सफेद डिबिया देते हुए कहा, “मैं ने ये गोलियां, पर्स, टेलीग्राम अपने पास रख लिए, इस खयाल से कि पुलिस स्टेशन में हिफाजत से रखवा दूंगा. ये गोलियां तो मैं ने यूं ही रख ली थीं क्योंकि मैं कहना चाहूंगा कि मैं इन को बिलकुल भी महत्त्वपूर्ण नहीं समझता.”

“इन को यहां दो,” होम्स ने कहा. “अब डाक्टर,” उस ने मेरी ओर मुड़ कर कहा, “क्या ये साधारण गोलियां हैं?”

सचमुच में वे गोलियां साधारण नहीं थीं. वे मोतिया-सलेटी रंग की थीं. छोटी, गोल और रोशनी में बिलकुल पारदर्शी, “इन के हलकेपन और पारदर्शिता से मैं अनुमान लगा सकता हूं कि ये पानी में घुल जाती होंगी,” मैं ने टिप्पणी की.

“बिलकुल,” होम्स ने जवाब दिया. “अब क्या तुम नीचे जा कर उस छोटे कुत्ते को लाओगे, जो इतने दिनों से बीमार है और मकान मालकिन कल जिस को चाह रही थी कि तुम उसे हमेशा के लिए सुला दो.”

मैं नीचे गया और गोद में उस कुत्ते को ऊपर ले आया. उस की उखड़ती सांसें और भावरहित आंखें दिखा रही थीं कि उस का अंत दूर नहीं है. बल्कि उस का बर्फ सा सफेद मुंह दिखा रहा था कि वह अपनी आयु पूरी कर चुका है. मैं ने उसे दरी पर पड़ी गद्दी पर रख दिया.

“अब इन में से एक गोली के मैं दो हिस्से करता हूं,” होम्स ने कहा और अपना चाकू निकालते हुए उस ने यही किया. “एक आधा हिस्सा हम भविष्य के लिए संभाल कर डिबिया में वापस रखेंगे, दूसरा आधा मैं इस शराब के गिलास में डालता हूं. जिस में चम्मच भर पानी है. तुम देखो कि हमारा डाक्टर मित्र सही है, यह गोली आसानी से पानी में घुल गई है.”

“यह तो काफी दिलचस्प बात है,” लेस्ट्रेड ने ऐसे आहत स्वर में कहा मानो उस का मजाक उड़ाया गया हो. “पर फिर भी मुझे यह समझ में नहीं आ रहा है किइस का मिस्टर जोजफ एंडरसन की मौत से क्या वास्ता है?”

“धीरज, मेरे दोस्त, धीरज! समय के साथ तुम देखोगे कि गोलियों का उस की मौत से पूरा वास्ता है. अब मैं उस को पीने लायक बनाने के लिए थोड़ा सा दूध मिला देता हूं और कुत्ते के सामने रखने पर हम पाएंगे कि वह इसे जल्दी से पी जाएगा.”

बोलतेबोलते उस ने शराब के गिलास के पानी को कुत्ते के बरतन में डाल दिया और कुत्ते के सामने रख दिया, जिस ने उसे पूरी तरह लपलप कर के पी डाला. शरलॉक होम्स की उत्सुकता से हमें उस पर विश्वास हो गया था और हम चुपचाप बैठे रहे, जानवर को गौर से देखते हुए तथा किसी अद्भुत होनी की उम्मीद लिए. पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. कुत्ता गद्दी पर लेटा रहा, मुश्किल से सांस लेता हुआ पर उस की हालत न सुधरी, न बिगड़ी.

होम्स ने अपनी घड़ी निकाली और जैसेजैसे बगैर परिणाम के मिनट पर मिनट बीतते गए, उस के चेहरे पर निराशा और खीज दिखाई पड़ने लगी. उस ने होंठ चबाने शुरू कर दिए, मेज पर अंगुलियां बजाने लगा और उस में तीव्र बेसब्री के सारे लक्षण दिखने लगा. वह इतना विह्वल हो रहा था कि मुझे उस के प्रति दिल से सहानुभूति हो गई, जबकि दोनों जासूस मजाक उड़ाते मुसकराने लगे और शरलॉक होम्स की इस मात पर उन्हें बिलकुल तकलीफ नहीं हुई.

“ऐसा नहीं हो सकता,” आखिर में अपनी कुरसी सेलपक कर कमरे में तेजी से चक्कर काटते वह बोला, “यह असंभव है कि ऐसा हुआ हो. वही गोलियां जिन पर ड्रेबर के मामले में मुझे शक था, अब स्टेंजरसन की मौत के बाद भी मिली हैं और फिर भी ये नाकाम हैं. इस का क्या मतलब हो सकता है? मेरी तर्क की पूरी कड़ी गलत नहीं हो सकती, यह नामुमकिन है! और फिर भी यह बेचारा कुत्ता ज्यों का त्यों है. आह! मुझे समझ में आ गया! समझ में आ गया! खुशी से किलकते हुए वह डिबिया की ओर जल्दी से बढ़ा, दूसरी गोली को दो भागों में बांट कर घोला, उस में दूध मिलाया और कुत्ते के सामने रख दिया. उस बदनसीब जीव की जीभ अभी तर भी नहीं हुई थी कि उस के हर अंग में झटके आने लगे और वह ऐसे निर्जीव हो गया, मानो उस पर बिजली गिर गई हो.”

“शरलॉक होम्स ने एक लंबी सांस खींची और माथे से पसीना पोंछा. “मुझे थोड़ा और विश्वास रखना चाहिए,” वह बोला, “इस समय तक मुझे मालूम होना चाहिए कि जब कोई तथ्य तर्कों की लंबी कड़ी के विरुद्ध जा रहा हो, इस का मतलब यही हो सकता है कि इस की कोई और वजह होगी. डिबिया में रखी दोनों गोलियों में एक बिलकुल भी हानिकारक नहीं थी, जबकि दूसरी में घातक विष था. डिबिया देखने से पहले ही मुझे यह बात मालूम होनी चाहिए थी.”

उस का यह अंतिम वाक्य मुझे इतना चौंकाने वाला लगा कि मुझे विश्वास करना मुश्किल लग रहा था कि वहअपने होशोहवास में है. परंतु वहां पर मरा हुआ कुत्ता भी था, जो साबित कर रहा था कि उस का अनुमान ठीक था. मुझे लगा कि मेरे मन का धुंधलका छंट रहा था. सत्य का मुझे कुछकुछ एहसास होने लगा था.

“यह सब तुम को अजीब लग रहा है,” होम्स बोलता गया, “क्योंकि जांच शुरू करने से पहले तुम उस एकमात्र असली सुराग का महत्त्व समझने में असफल रहे, जो तुम्हारे सामने था, पर मैं ने वह सुराग पकड़ लिया और तब से अब तक जो कुछ भी हुआ है, उस से मेरे शुरुआती अंदेशे को तूल मिला है. इसलिए जिन बातों ने तुम लोगों को उलझन में डाला है और मामले को पेचीदा बनाया है, उन बातों ने मेरे निष्कर्षों को मजबूत किया है. अजीब बातों को रहस्य का नाम देना गलत है. सब से आम अपराध कभीकभी सब से बड़ा रहस्यमय होता है क्योंकि वह कोई भी ऐसे नए या विशेष आयाम नहीं प्रस्तुत करता, जिस से गलत निष्कर्ष निकाला जा सके. यह हत्या सुलझाना तब ज्यादा मुश्किल होता अगर मृतक किसी आम रास्ते पर पड़ा मिलता, बगैर किसी तामझाम के जिन की वजह से यह मुद्दा इतना असाधारण दिख रहा है. अजीब बातों ने मामले को कठिन बनाने की बजाए आसान कर दिया है.”

मिस्टर ग्रेगसन जो बेसब्री से यह सब सुन रहा था, अब अपने को रोक नहीं सका, “देखो, मिस्टर शरलॉक होम्स,” उस ने कहा, “हम सब यह मानने को तैयार हैंकि तुम बहुत होशियार हो और काम करने का तुम्हारा एक खास तरीका है, पर अभी हम तुम्हारा भाषण सुनने के लिए तैयार नहीं हैं. यहां तो खूनी को पकड़ने का मामला है. मैं ने केस सुलझा लिया था. पर ऐसा लगता है कि मैं गलत था. युवक शारपेंटियर इस दूसरे मामले में शामिल नहीं हुआ होगा. लेस्ट्रेड उस व्यक्ति स्टेंजरसन के पीछे गया और ऐसा लगता है कि वह भी गलत था. यहां तुम ने कुछ सुराग हमारे सामने रखे हैं और लगता है कि तुम हम से ज्यादा जानते हो. पर अब समय आ गया है जब हम महसूस करते हैं कि हमें सीधे यह पूछने का हक है कि तुम घटना के बारे में कितना जानते हो. क्या तुम उस आदमी का नाम बता सकते हो, जिस ने यह किया है?”

“मुझे भी लगता है कि ग्रेगसन ठीक कह रहा है, सर,” लेस्ट्रेड ने टिप्पणी की. “हम दोनों ने कोशिश की और हम दोनों असफल रहे. आप ने एक से ज्यादा बार कहा है, जब से मैं इस कमरे में हूं कि आप के पास वे सारे सबूत हैं जिन की आप को जरूरत है. हम चाहते हैं कि आप इस बात को अपने तक सीमित न रखें.”

“हत्यारे को पकड़ने में कोई भी देरी,” मैं ने कहा, “उस को कोई नया जुल्म करने का अवसर देगी.”

इस तरह हम सब के जोर देने पर होम्स थोड़ा डिगा. वह कमरे में इधरउधर चहलकदमी करता रहा. उस का सिर छाती तक झुका हुआ और भौंहें तनी हुई लग रही थीं, जैसी उस की आदत थी, जब वह खयालों में खोयाहोता था.

“अब और कोई हत्या नहीं होगी,” आखिर में अचानक रुक कर हमारी ओर मुड़ कर वह बोला. “इस अंदेशे का सवाल ही नहीं है. तुम ने पूछा है कि क्या मैं हत्यारे का नाम जानता हूं. मैं जानता हूं, फिर भी सिर्फ नाम जान लेना मामूली बात है. उस को पकड़ लेना असली काम है, मुझे पूरी उम्मीद है कि हम जल्दी ही ऐसा कर सकेंगे, मुझे पूरी आशा है कि मैं अपने ही इंतजाम से ऐसा कर लूंगा. पर यह हमें बड़ी नजाकत और कोमलता से करना है, क्योंकि हमारा पाला एक चालाक आदमी से पड़ा है, जो किसी भी हाल में हत्या करने पर उतारू है.

“हमारे पास इस बात का सबूत है कि उस की मदद कोई एक और आदमी कर रहा है जो उसी की तरह होशियार है. जब तक इस आदमी को यह अंदाज नहीं होता कि किसी के पास हत्या का कोई सुराग नहीं है, उस को पकड़ने की थोड़ीबहुत संभावना है. पर उस को अगर जरा सा भी शक हो गया, तो वह अपना नाम बदल लेगा और इस बड़े शहर की चार मिलियन (चालीस लाख) आबादी में पलभर में ही विलीन हो जाएगा. तुम में से किसी की भी भावना को ठेस पहुंचाए बगैर मैं कहने को मजबूर हूं कि मैं इन अपराधियों को पूरे पुलिस बल से ज्यादा शातिर मानता हूं और इसलिए मैं ने तुम्हारी मदद नहीं ली. अगर मैं असफल हो जाता हूं, तो जरूर मुझे अपनी इस ढील के लिए सारा इलजामभुगतना होगा, पर मैं उस के लिए तैयार हूं. फिलहाल मैं इतना वादा करने को तैयार हूं कि अपनी छानबीन को खतरे में डाले बगैर जैसे ही संभव होगा, मैं तुम लोगों से संपर्क करने की कोशिश करूंगा.”

इस आश्वासन से या खुफिया पुलिस की बुराई सुन कर ग्रेगसन और लेस्ट्रेड बिलकुल भी संतुष्ट नहीं दिखे. ग्रेगसन तो अपने बालों की जड़ों तक तमतमा उठा था, जबकि दूसरे की छोटीछोटी आंखों में कौतूहल और नाराजगी दिखी. पर दोनों में से किसी के भी पास बोलने का वक्त नहीं था, क्योंकि तभी दरवाजे पर दस्तक हुई और सड़की फौज का मुखिया, विगिंस अपने भद्दे रूप में प्रस्तुत हुआ.

“प्लीज, सर!” अपने माथे की लट से खेलता वह बोला, “कैब मैं ने नीचे खड़ी कर दी है.”

“गुड ब्वाय,” होम्स ने सपाट स्वर में कहा. “तुम यह तरीका स्कॉटलैंड यार्ड में क्यों नहीं शामिल करते,” वह बोला और एक दराज में से स्टील की हथकड़ियों का जोड़ा निकाला, “देखो, इस की स्प्रिंग कितनी सुंदर तरह काम करती है. पल भर में जकड़ लेती है.”

“पुराना तरीका भी ठीक है,” लेस्ट्रेड ने टिप्पणी की, “अगर हथकड़ियां पहनाने के लिए अपराधी मिल जाए.”

“बहुत अच्छा, बहुत अच्छा,” होम्स ने मुसकराते हुए कहा. “गाड़ीवान शायद मुझे मेरे बक्से उठाने में मदद करे. उस से कहो कि वह जल्दी से ऊपर आए, विगिंस.”

मुझे ताज्जुब हुआ कि मेरा मित्र ऐसे बोल रहा थामानो अभी यात्रा पर निकल रहा हो, क्योंकि उस ने मुझ से इस बारे में कुछ नहीं कहा था. कमरे में एक छोटा सा सूटकेस था और उसे बाहर खींच कर वह उस पर पेटी कसने लगा. वह इस काम में व्यस्त था, तभी गाड़ीवान कमरे में आया.

“इसे बांधने में मेरी मदद करो.” गाड़ीवान घुटनों के बल बैठ कर अपना काम करते हुए बगैर सिर उठाए वह बोला.

वह आदमी अनमने से ढंग से बढ़ा और मदद के लिए अपना हाथ बढ़ाया, उसी पल धातु खनकने की एक तेज खटाक की आवाज हुई और शरलॉक होम्स फिर से अपने पैरों पर खड़ा हो गया.

“जेंटलमैन,” चमकती आंखों से वह बोला, “मैं मिस्टर जेफरसन से आप का परिचय कराता हूं, जो ड्रेबर और जोजफ स्टेंजरसन का हत्यारा है.”

पूरी घटना पलभर में हो गई. इतनी जल्दी कि मुझे कुछ समझने का वक्त ही नहीं मिला. उस पल की विविध यादें मेरे मन में हैं, होम्स का विजयी भाव और उस की आवाज की खनक और गाड़ीवान का बौखलाया हुआ खतरनाक चेहरा अपने हाथों की चमकती हथकड़ियों को बदहवास सा देखता हुआ, जो उस की कलाई पर मानो जादू से प्रकट हुई हों. एक या दो सेकेंड के लिए हम जैसे बुत बन गए थे. फिर गुस्से से गरजते हुए कैदी ने होम्स की पकड़ से एक झटके में अपने को छुड़ा लिया. खिड़की से कूदने से पहले ही ग्रेगसन, लेस्ट्रेड और होम्सउस पर शिकारी कुत्तों की तरह झपट पड़े. उसे वापस कमरे में खींच लिया गया और उस के बाद भीषण लड़ाई हुई.

वह इतना ताकतवर और भयानक था कि हम चारों बारबार पटकी खा रहे थे. ऐसा लग रहा था मानो उसे मिरगी का दौरा पड़ा हो. जब लेस्ट्रेड ने उस का कॉलर पकड़ कर उस का आधा दम घोंट सा दिया तो, उसे समझ में आया कि उस की कोशिशें बेकार हैं. इस के बाद भी हम ने तब तक सुरक्षित नहीं महसूस किया जब तक हम ने उस के हाथ और पैर बांध नहीं दिए. ऐसा कर हम हांफते हुए अपने पैरों पर खड़े हुए.

“हमारे पास इस की गाड़ी है,” शरलॉक होम्स ने कहा. “यह इस को स्कॉटलैंड यार्ड तक ले जाने के काम आएगी. अब जेंटलमैन,” सुहानी मुसकान के साथ वह बोला, “हम अपनी छोटी सी गुत्थी के अंत तक पहुंच गए हैं. अब तुम लोगों को मुझ से कुछ भी सवाल पूछना है, तो स्वागत है और अब ऐसा कोई खतरा नहीं है कि मैं उन का जवाब देने से इनकार करूंगा.”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi
en_USEnglish hi_INHindi